Friday, April 19, 2024
Google search engine
Homeछत्तीसगढ़फिर लौटेगी राजिम कुंभ की भव्यता,विधानसभा में मतविभाजन के बाद पारित हुआ...

फिर लौटेगी राजिम कुंभ की भव्यता,विधानसभा में मतविभाजन के बाद पारित हुआ संशोधन विधेयक

24 फरवरी से 8 मार्च तक होगा राजिम कुंभ कल्प का आयोजन

रायपुर – छत्तीसगढ़ का प्रख्यात राजिम मेला एक बार फिर राजिम कुंभ के नाम से जाना जाएगा। विधानसभा में इस संबंध में संशोधन प्रस्ताव मतविभाजन के बाद पारित हुआ,लेकिन इससे पहले सदन में मेले का नाम बदलने को लेकर खूब बहस हुई।

छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले का राजिम मेला अब फिर से राजिम कुंभ के रूप में पहचाना जाएगा। पिछली सरकार ने इसके नाम को बदलकर राजिम माघी पुन्नी मेला कर दिया था। लेकिन बुधवार को विधानसभा में संशाेधन विधेयक पेेश कर इसके नाम को बदला गया। इस बीच संस्कृृति से छेड़छाड़ को लेकर सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच तीखी बहस भी हुई। संस्कृति मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने तर्क दिया कि राजिम को कुंभ का स्वरुप प्रदेश के नाम देश दुनिया में पहुंचाने के उद्देश्य से दिया गया था, लेकिन पिछली सरकार ने इसे माघी पुन्नी मेला कर दिया।बृजमोहन अग्रवाल ने तर्क दिया कि माघी पुन्नी मेला प्रदेश में पांच हजार स्थानों पर होता है। लेकिन कुंभ सिर्फ चार स्थानों पर होता है। इस आयोजन के माध्यम से पूरे देश में प्रदेश का नाम जाना पहचाना जाता है। जबकि विपक्ष ने सरकार पर संस्कृति से छेड़छाड़ का आरोप लगाया। इसे लेकर अटल श्रीवास्तव और सुशांत शुक्ला के बीच तीखी बहस भी हुई। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि सरकार अगर राजिम मेले के स्वरुप का विस्तार करना चाहती है, तो पूर्ण समर्थन है। लेकिन इसका नाम नहीं बदला जाना चाहिए। इस मामले में विपक्ष ने तीखा तेवर दिखाते हुए मतविभाजन की मांग कर दी। इससे फ्लोर मैनेजमेंट में जुटे लोगों को अचानक सक्रिय होना पड़। बाद में विधेयक के पक्ष में 43 और विपक्ष में 30 मत पड़े।

छत्तीसगढ़ में राजिम मेले को लेकर पहले भी सियासत होती रही है। अब एक बार फिर मेले का नाम बदलकर कुंभ कर दिया गया है सियासी वार पलटवार से इतर, मेले की भव्यता बढ़े।देश विदेश तक छत्तीसगढ़ की संस्कृति और और राजिम के धार्मिक महत्व की जानकारी पहुंचे। तभी राजिम मेले की सार्थकता भी सिद्ध होगी और इसकी भव्यता का प्रदेश को लाभ भी मिलेगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments