Tuesday, June 18, 2024
Google search engine
Homeछत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने पूरा संगठन ही झोंका

छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने पूरा संगठन ही झोंका

प्रदेश अध्यक्ष के साथ तीन महामंत्री,दो उपाध्यक्ष,प्रदेश मंत्री कई प्रवक्ता लड़ रहे चुनाव

रायपुर – छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में भाजपा हर हाल में इस बार जीत प्राप्त करके सत्ता में वापसी करना चाहती है। यही वजह है कि इस बार जीत दिलाने वाले प्रत्याशी मैदान में उतारे गए हैं। इतिहास में पहली बार भाजपा ने अपना पूरा प्रदेश संगठन ही चुनावी समय में झोंक दिया दिया है।  एक साथ कई बड़े पदाधिकारियों काे भी चुनावी मैदान में उतारा गया है। प्रदेशाध्यक्ष का चुनाव लड़ना नया नहीं है, लेकिन एक साथ तीन महामंत्रियों के साथ उपाध्यक्ष और प्रदेश के मंत्री भी मैदान में उतारे गए हैं। इसी के साथ कई प्रवक्ताओं काे भी कमल खिलाने का जिम्मा दिया गया है। यही नहीं पूर्व पदाधिकारियों काे भी टिकट देकर मैदान में उतारा गया है।

छत्तीसगढ़ के चुनाव के लिए भाजपा का राष्ट्रीय संगठन बहुत ज्यादा ही गंभीर है। यही वजह है कि यहां पर चुनाव की कमान संभालने का काम खुद केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने किया है। उनके चुनाव की कमान संभालने के बाद यहां पर बड़े चौंकाने वाले फैसले हुए हैं। इसके पीछे का कारण यह है कि भाजपा काेई भी लगती किए बिना इस बार चुनाव जीतना चाहती है। इसके लिए जहां राष्ट्रीय स्तर पर तीन सर्वे हुए, वहीं अमित शाह की टीम ने भी अलग से सर्वे किया। इसके बाद ही टिकट बांटे गए। सर्वे में यह बात भी सामने आई कि प्रदेश के संगठन के पदाधिकारियों काे चुनावी मैदान में उतारना संगठन के लिए फायदेमंद रहेगा। यही वजह कि थोक में इस बार संगठन के पदाधिकारियों काे टिकट दिया गया है।  

दूसरी बार प्रदेश अध्यक्ष मैदान में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और बिलासपुर के सांसद अरुण साव काे लोरमी से टिकट दिया गया है। इसके पहले पिछले चुनाव में प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक बिल्हा से चुनाव लड़ चुके हैं। हालांकि तब वे विधायक थे, ऐसे में उनका टिकट पक्का था, लेकिन वे विधायक के साथ प्रदेशाध्यक्ष रहते हुए चुनाव लड़े जिस तरह से अब अरुण साल सांसद रहते हुए चुनाव लड़ रहे हैं।

तीन महामंत्री पहली बार मैदान में
भाजपा के राष्ट्रीय संगठन ने प्रदेशाध्यक्ष अरुण साव के साथ तीनों महामंत्री केदार कश्यप काे नारायणपुर, विजय शर्मा को कवर्धा और ओपी चौधरी को रायगढ़ से टिकट दिया है। ऐसा पहली बार हाे रहा है जब संगठन के तीनों महामंत्री चुनाव लड़ रहे। इसी के साथ प्रदेश मंत्री प्रबल प्रताप सिंह जूदेव काे कोटा से मैदान में उतारा गया है। इसके अलावा दाे उपाध्यक्षों सरला काेसरिया पर सरायपाली, उधेश्वरी पैकरा काे सामरी लखन देवांगन पर कोरबा से दांव खेला गया है।  

पूर्व पदाधिकारी भी मैदान में
एक राष्ट्रीय उपाध्यक्ष लता उसेंडी काे कोंडागांव, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी काे अंतागढ़, राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य पूर्व प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय काे कुनकुरी, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक काे बिल्हा, पूर्व उपाध्यक्ष और संभाग प्रभारी किरण देव को जगदलपुर,  किसान मोर्चा के पूर्व अध्यक्ष श्याम बिहारी जायसवाल को मनेंद्रगढ़ से मैदान में उतारा गया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments