Sunday, June 16, 2024
Google search engine
Homeछत्तीसगढ़रमन सिंह और भाजपा के परिवारवाद के आरोप पर कांग्रेस का पलटवार

रमन सिंह और भाजपा के परिवारवाद के आरोप पर कांग्रेस का पलटवार

भारतीय जनता पार्टी में सिर्फ और सिर्फ रमन के रिश्तेदार हो रहे उपकृत

रायपुर – छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अजय गंगवानी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव भारतीय जनता पार्टी नहीं लड़ रही है बल्कि चुनाव रमन सिंह, उनका परिवार, उनके रिश्तेदार और उनकी पूरी गैंग लड़ रही है, राजनांदगांव से रमन सिंह स्वयं चुनाव लड़ रहे हैं, खैरागढ़ से उनका भांजे विक्रांत सिंह चुनाव लड़ रहे हैं और कल ही रमन सिंह की भांजी ’भावना बोहरा’ को भारतीय जनता पार्टी ने पंडरिया से अपना विधानसभा उम्मीदवार बनाया है। परिवारवाद का इससे बड़ा उदाहरण पूरे देश में नहीं हो सकता है रमन सिंह के एक ही परिवार से छत्तीसगढ़ के 2023 के विधानसभा चुनाव में 3-3 लोग चुनाव लड़ने वाले हैं, उसके बाद रमन सिंह और भारतीय जनता पार्टी द्वारा कांग्रेस पार्टी पर परिवारवाद का आरोप लगाना राजनैतिक पाखंड की पराकाष्ठा है। इस पूरे प्रकरण से स्पष्ट है कि भारतीय जनता पार्टी का कैडरबेस पार्टी और कार्यकर्ताओं की पार्टी होने का दावा सिर्फ और सिर्फ एक जुमला है और उनकी असलियत छत्तीसगढ़ की जनता के सामने खुल कर आ चुकी है.

कांग्रेस प्रवक्ता अजय गंगवानी ने कहा कि रमन सिंह का यह परिवारवाद पूर्व में भी जब रमन सिंह 15 साल तक छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री थे तब भी जारी था, उनके पुत्र अभिषेक सिंह सांसद रहे, उनकी पुत्री राज्य सरकार के कोटे से डेंटल काउंसिल आफ इंडिया की सदस्य रही, उनके दामाद डॉक्टर पुनीत गुप्ता डीकेएस अस्पताल में नोडल अधिकारी रहे, जिन पर डी के एस घोटाले का आरोप भी लगा, रमन सिंह के समधी आयुष विश्वविद्यालय के कुलपति रहे, रमन सिंह के साले पर्यटन निगम मंडल में उप महाप्रबंधक रहे, रमन सिंह के ममेरे भाई जिला सहकारी बैंक राजनांदगाव के अध्यक्ष रहे, रमन सिंह के भांजे खैरागढ़ नगर पालिका के अध्यक्ष भी रहे, इसलिए रमन सिंह कांग्रेस को परिवारवाद का पाठ पढ़ाने का दुष्प्रयास ना करें। और यह चरित्र सिर्फ रमन सिंह का नहीं है पूरी भारतीय जनता पार्टी का है, छत्तीसगढ़ में ऐसे बहुत से उदाहरण मौजूद है, बस्तर से भाजपा के वरिष्ठ नेता स्वर्गीय बलिराम कश्यप का एक पुत्र लोकसभा चुनाव जीत कर सांसद बनता है और दूसरा पुत्र विधानसभा चुनाव जीतकर रमन सरकार में मंत्री बनता है। भारतीय जनता पार्टी के पितृपुरुष माने जाने वाले नेता स्व.लखीराम अग्रवाल के पुत्र अमर अग्रवाल रमन सरकार में कदावर मंत्री रहे।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के पुत्र जय शाह बीसीसीआई के सचिव के रूप में काम कर रहे हैं, भारतीय क्रिकेट में उनका क्या योगदान है देश की जनता जानना चाहती है? केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह का पुत्र पंकज सिंह उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री हैं और उनका पोता विधायक है, मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर के पिता प्रेम कुमार धूमल हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री रहे, मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे पीयूष गोयल के पिता वेद प्रकाश गोयल भी केंद्रीय मंत्री रहे,मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के पिता भी पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे, दुष्यंत सिंह भारतीय जनता पार्टी के सांसद हैं, इनकी माता वसुंधरा राजे राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री रही. पूरे देश में भारतीय जनता पार्टी से जुड़े ऐसे हजारों नेताओं के उदाहरण मौजूद हैं जो परिवारवाद के जीते जागते सबूत है.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments